जिन्दगी चलती जाती है …..

जिंदगी चलती जाती है|

हर घड़ी, हर पहर, बस चलती जाती है

जैसे मुट्ठी में रेत भरने की, कोशिश की हो हमने,

और उस बिखरती रेत की तरह,

यह जिंदगी बस फिसलती जाती है|

जैसे घड़ी में सुइयों के साथ दौड़ने की कोशिश की हो हमने,

और उस गुजरते वक्त की तरह,

यह जिंदगी बस गुजरती जाती है|

जैसे छलनी में पानी भरने की कोशिश की हो हमने,

और उस बहते हुए पानी की तरह,

यह जिंदगी बस बहती जाती है|

जिंदगी बस चलती जातीहै|

हर घड़ी, हर पहर, बस चलती जाती है|

और फिर एक दिन-

जैसे पूरे होते चक्र की तरह,

यह अधूरा सफर, ना चाह कर

अनजाने में, पूरा सा हो जाता है|

न जाने कितने सपने, कितनी चाहते,

इस दिल में यूं रह जाते हैं|

जैसे रात जुगनू ने रोशन करने की कोशिश

की हो,

और दिन होते ही जुगनू छुप जाती हैं|

यह जिंदगी बस गुम हो जाते हैं|

यह जिंदगी गुम हो जाती है|

Advertisements

42 thoughts on “जिन्दगी चलती जाती है …..

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s