“न जाने कब? “

'अरमान' न जाने कब ?                         'लफ्ज' बनकर । उनके पहलू में  जा पहुंचे। 'ख्वाब' न जाने कब ?                          'हकीकत'  बनकर । नजर के सामने आ पहुंचे । वो न जाने कब ? …

Continue reading “न जाने कब? “