“जिन्दगी  को करीब से देखा है…..”

आज फिर एक बार जिन्दगी को,

 बहुत करीब से देखा है ।

       कितनी मासूम है, कितनी  अनजान है, 

            जैसे बेजुबान है।

आज फिर एक बार जिन्दगी को,

करीब से देखा है ।।

        ये तो जानती  भी नही, कि अब कितना   जिऊगी, 

      ना जाने कब मिट् जाऊं।

आज फिर एक बार जिन्दगी को,

करीब से देखा है।।

           ये एहसास, ये  जिंदगी का दर्द …..

         मैंने आज , बहुत करीब से जाना है ।

           जब अपनो  ने , गैर होने  का एहसास दिया ,

              तब ये मासूम ,बिखर सी गई ।                       तब  फिर एक बार ,जिन्दगी को ,

बहुत करीब से देखा है।

            आज फिर एक बार, जिन्दगी को।

                 बहुत करीब से देखा है ।।

                                       -रितु 

Advertisements

70 thoughts on ““जिन्दगी  को करीब से देखा है…..”

  1. Shraddha Singh

    Very emotional and positive. Heart touching at the same time. Let me suggesst you one thing… Pls try out a rhyme in your poems… that will give a lyrical touch. 🙂 All the very best.

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s