एक सर्द रात, और चाँद !

​आज चाँद का इस सर्द रात में,                 यूं पूरा निकलना- इसकी चाँदनी का,                 यूं दिल म चुभना,- किसी सजा से कम नहीं।                  कितनी बेचैनी बढ़ रही है,         …

Continue reading एक सर्द रात, और चाँद !